श्रीगंगानगर। अशोक गहलोत सरकार ने कार्यभार संभालने के बाद अब प्रदेश के हालात संभालने आरंभ कर दिये हैं। ग्रामीण इलाकों में स्थिति किस प्रकार की है, इसको लेकर सरकार ने आज जिला अधिकारियों से जवाब तलब किया।
मुख्यमंत्री रहते हुए अशोक गहलोत अपने ग्रामीण अंचल के प्यार को दिखा चुके हैं। उन्होंने ग्रामीण अंचल के लोगों को अधिकाधिक लाभ देने के लिए ग्रामीण बस सेवा भी आरंभ की थी। यह सेवा लोकप्रिय भी हो रही थी किंतु उनके बाद भाजपा सरकार ने इस सेवा के प्रति अपनी रुचि नहीं दिखायी थी और उसने निजीकरण को बढ़ावा दिया था। सरकार का मानना था कि यह सेवा घाटे का सौदा है। वह मुनीम बन गयी थी और ग्रामीणों को होने वाले लाभ को भी सरकार ने अपने कमाई के कांटे पर तोलना आरंभ कर दिया था।
सरकार अब फिर से बदली है। अशोक गहलोत फिर से मुख्यमंत्री बने हैं तो वे फिर से ग्रामीण अंचल की एक रिपोर्ट चाहते हैं ताकि आगामी पांच सालों में उस नजरिये से विकास कार्य किये जा सकें। इसी के कारण सरकार के आदेश पर ग्रामीण विकास विभाग के अधिकारियों ने जिला परिषद तथा पंचायत समिति के अधिकारियों से जवाब-तलब किया। यह जवाब-तलबी वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिये हुई। माना जा रहा है कि सरकार ग्रामीण क्षेत्र में मजबूत परिवहन व्यवस्था देना चाहती है ताकि ग्रामीणों को शहर में आने-जाने के लिए अपना समय निर्धारित नहीं करना पड़े। वे जब चाहे तब आएं और जब चाहे वे जाएं। आज हुई वीडियो कॉन्फ्रेसिंग का निष्कर्ष सरकार अगले कुछ दिनों में नये आदेश जारी कर बता पायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here