आप के संयोजक अरविदं केजरीवाल और सीनियर एडवोकेट एचएस फूलका।

चण्डीगढ़। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एचएस फूलका ने पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविदं केजरीवाल को इस्तीफा सौंपकर लोकसभा चुनावों से पहले कुछ नये राजनीतिक समीकरण को जन्म देने का प्रयास किया है। वरिष्ठ अधिवक्ता सरदार एचएस फूलका के आप छोड़ देने से पार्टी को एक झटका लगा है, जिसको नजरांदाज नहीं किया जा सकता।

1984 में सिखों के खिलाफ भड़के दंगों के दोषियों को सजा दिलाने के लिए एचएस फूलका पैरवी कर रहे हैं। आम आदमी पार्टी के गठन के समय उन्होंने पार्टी को ज्वाइन कर लिया था। वे 2014 के लोकसभा चुनावों में पार्टी की टिकट पर चुनाव भी लड़ चुके हैं लेकिन कांग्रेस के हाथों उन्हें हार देखनी पड़ी थी।

वे वर्तमान में पंजाब विधानसभा के सदस्य हैं। जुलाई 2017 में उन्होंने विधानसभा चुनावों में दाखां से निर्वाचन फार्म भरा था और वे विजयी भी हुए। पिछले कुछ समय से वे पार्टी के नेताओं से नाराज चल रहे थे।

बताया जा रहा है कि आज शुक्रवार को वे दिल्ली में पत्रकार वार्ता कर अपने इस्तीफे के कारणों का खुलासा करेंगे। लेकिन एक हकीकत यह भी है कि लोकसभा चुनाव कुछ माह बाद ही है और उस नजरिये से उनका इस्तीफा महत्वपूर्ण समीकरण को अंजाम दे सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here