नई दिल्ली। अमेरिका ने कुछ ही दिन पहले रूस की कुछ कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी। इसके बाद अब रूस ने एक अमेरिकी नागरिक को हिरासत में लिया है। उस पर रूस में रहकर जासूसी करने का आरोप लगा है। रूस की इस कार्यवाही ने दोनों देशों के तनाव में अवश्य ही तेल डालने का काम किया है क्योंकि कुछ ही दिन पहले चाइना ने कनाडा के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया था।

संवाद सेवा तास ने रिपोर्ट दी है कि रूस की संघीय सुरक्षा सेवा (एफएसएस) ने मॉस्को में अमेरिकी नागरिक पॉल व्हेलन को जासूसी के संदेह में हिरासत में लिया है।

इस संबंध में एफएसएस के प्रवक्ता ने बताया है कि  “28 दिसंबर को रूसी संघीय सुरक्षा सेवा के स्टाफ सदस्यों ने मास्को में अमेरिकी नागरिक व्हेलन को हिरासत में लिया।”

अमेरिकी नागरिक के खिलाफ जासूसी की आपराधिक जांच शुरू की गई है।

अगर दोषी पाया जाता है, तो उसे 10 से 20 साल की जेल का सामना करना पड़ सकता है।

उल्लेखनीय है कि इस कार्यवाही के मामले में अमेरिका भी प्रत्युत्तर दे सकता है। अमेरिका और रूस के पहले ही मिसाइलों को लेकर तनाव चल रहा है। अमेरिका में राष्ट्रपति पद को लेकर हुए चुनाव में भी अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियां आरोप लगा रही हैं कि रूसी खुफिया एजेंसियों ने कहीं न कहीं चुनाव को प्रभावित करने का प्रयास किया था। अब तक मामले में स्थिति स्पष्ट नहीं हो पायी है। हालिया मध्यावधि चुनाव में भी इस तरह की चर्चा थी किंतु एफबीआई ने इस तरह की रिपोर्ट को नकार दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here