पाकिस्तान जा रहे पानी को रोको

किसान संघर्ष समिति ने मुख्यमंत्री को बतायी तीनों परियोजनाओं की सच्चाई
श्रीगंगानगर। राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले को भले ही हरा-भरा क्षेत्र माना जाता हो लेकिन अभी भी किसानों को पूरा पानी नहीं मिल पाता। पानी के अभाव में ही किसान अपने खेत में पूरी सिंचाई नहीं कर पाता। वहीं सूरतगढ़ के टिब्बा क्षेत्र से भी हजारों लोग कई सालों से सिंगरासर माइनर की मांग कर रहे हैं, जो सरकार सुन नहीं रही। दूसरी ओर सच्चाई यह भी है कि हर कई लाख क्यूसेक पानी पाकिस्तान को चला जाता है।
किसान संघर्ष समिति के प्रवक्ता सुभाष सहगल और सुभाष बिश्रोई ने मुख्यमंत्री को जिला कलक्टर के माध्यम से एक पत्र भेजा है। इस पत्र में बताया गया है कि हर साल मानसून के दौरान पानी पाकिस्तान चला जाता है। मानसून के दौरान कई बार भाखड़ा और पौंग बांध में जब आवक ज्यादा हो जाती है तो उस समय पानी पाकिस्तान को छोड़ दिया जाता है।
अगर उस पानी को भंडारित करने के लिए प्रयास किये जायें तो इंदिरा गांधी नहर जिसकी क्षमता 18 हजार क्यूसेक है, को भी पूरा पानी मिल सकता है। इससे नये क्षेत्रों को भी सिंचित किया जा सकता है और जो वर्तमान में सिंचित क्षेत्र हैं, उनको भी पर्याप्त पानी मिलेगा, तो फसल उत्पादन पहले से कहीं ज्यादा होगा। इससे सरकार के राजस्व में बढ़ोतरी होगी और किसान भी खुशहाल हो जायेगा।
श्री सहगल ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर यह भी अवगत करवाया है कि गंगनहर और उसकी वितरिकाओं की सफाई करवायी जाये तो भी किसानों को पूरा पानी मिल सकेगा। उन्होंने मांग की है कि यह कार्य अगर मानूसन से पूर्व हो जाये तो इसका लाभ इसी साल किसानों को अवश्य ही मिल जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here