पंजाब डेमोकेटिक अलाइंस ने की लोकसभा के लिये बारह उम्मीदवारों की घोषणा

चंडीगढ़ ,11 मार्च (वार्ता) पंजाब डेमोक्रेटिक अलाइंस (पीडीए) ने लोकसभा चुनावों के लिये राज्य की तेरह सीटों में से बारह पर उम्मीदवारों की आज घोषणा कर दी ।
यह जानकारी पंजाब एकता पार्टी के अध्यक्ष एवं आम आदमी पार्टी से अलग हुये विधायक सुखपाल खेहरा ने गठबंधन की ओर से आज यहां दी । छह दलों की आज यहां चुनावी मंथन के लिये बैठक हुई जिसमें सर्वसम्मति से बारह सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान किया । उन्होंने कहा कि गठबंधन में पंजाब एकता पार्टी ,बहुजन समाज पार्टी,लोक इंसाफ पार्टी,पंजाब मंच ,भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और श्री मंगतराम पासला के नेतृत्व वाली आरएमपीआई शामिल है ।
उन्होंने कहा कि गठबंधन अकाली दल -भाजपा गठबंधन ,सत्तारूढ़ कांग्रेस का विकल्प बनकर तीसरी ताकत के रूप में उभरेगा । बसपा को आनंदपुर साहिब ,जालंधर और होशियारपुर ,पंजाब एकता पार्टी को बठिंडा ,फरीदकोट और ख्रदूरसाहिब ,लोक इंसाफ पार्टी को लुधियाना ,अमृतसर तथा फतेहगढ़ साहिब ,पंजाब मंच को पटियाला ,सीपीआई को फिरोजपुर और आरएमपीआई को गुरदासपुर सीटें दी गई हैं ।
श्री खेहरा के अनुसार पटियाला लोकसभा सीट से डा 0 धर्मवीर गांधी ,खडूर साहिब से बीबी परमजीत कौर खालडा ,फतेहगढ़ साहिब (सु0 )से मनविंदर सिंह ग्यासपुरा ,फरीदकोट (सु0) से मास्टर बलदेव सिंह जैतो ,आनंदपुर साहिब से विक्रम सिंह सोढी ,होशियारपुर (सु0)से रिटायर्ड आईएएस खुशीराम ,जालंधर (सु0) बलविंदर कुमार उम्मीदवार होंगे । श्री खेहरा ने कहा कि पंजाब को भ्रष्ट परंपरागत पार्टियों अकाली -भाजपा ,कांग्रेस के शिकंजे से मुक्त कराने के लिये गठबंधन करना पड़ा । इन प्रमुख दलों ने पंजाब को दशकों से जमकर लूटा । इन दलों के कुशासन के कारण राज्य पर ढाई लाख करोड़ का कर्जा है । किसानों तथा खेत मजदूरों की दुर्दशा किसी से छिपी नहीं है । युवाओं को राेजगार नहीं ,किसान आत्महत्यायें कर रहे हैं । नशे का बोलबाला है ,व्यापारी और उद्योगपति केन्द्र की नीतियों के मारे उठ नहीं पा रहे हैं । राज्य में हर तरह का माफिया राज कर रहा है ।
उन्होंने कहा कि राज्य में भ्रष्टाचार की जड़ें मजबूत हो गयी हैं तथा शिक्षा ,स्वास्थ्य का हाल खराब है । कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गयी है तथा जंगलराज कायम है । कर्मचारियों ,दलितों और कमजोर वर्ग की कोई सुनने वाला नहीं । सभी कैप्टन अमरिंदर सिंह तथा बादलों जैसे संभ्रांत नेताओं के सताये हुये हैं । सभी लोग निराश हैं । वे इन पार्टियों के विकल्प की तलाश में हैं और लोकसभा चुनाव में गठबंधन उन्हें नया विकल्प देगा ।
शर्मा विक्रम
वार्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here