मंत्री भारत भूषण आशू को बर्खास्त किया जाय:खैहरा

जालंधर, 13 मार्च (वार्ता) पंजाब एकता पार्टी (पीएपी) के अध्यक्ष सुखपाल सिंह खैहरा ने बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और राज्य के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह से भूमि विवाद से जुड़े मामले में कथित रूप से शामिल राज्य के खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले के मंत्री भारत भूषण आशू को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने की मांग की है।
श्री खैहरा ने कैप्टन सिंह को पत्र लिख कर मांग की है कि लुधियाना में आर. के. बिल्डर की ग्रेंड मेन्योर होम प्रोजेक्ट की जमीन के दस्तावेजाें में फर्जीवाड़े में शामिल मंत्री आशू, निगम अधिकारियों और बिल्डर के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज कर इसकी जांच सीबीआई या पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से करवाई जाए। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष जांच के लिए मंत्री आशू को कैबिनेट से बर्खास्त किया जाए।
श्री खैहरा ने संवाददाता सम्मेलन में फर्जीवाड़े के दस्तावेजी सबूत पेश करते हुए पत्रकारों से कहा कि सूचना का अधिकार कार्यकर्ता कुलदीप सिंह खैहरा की शिकायत पर पंजाब के निकाय मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने नगर निगम लुधियाना के पुलिस उपाधीक्षक बलविंदर सिंह सेखों को लुधियाना के गिल रोड पर चल रहे निर्माण में भ्रष्टाचार की जांच के आदेश दिए थे। उन्होंने बताया कि श्री सिंह ने अपनी जांच रिपोर्ट में निगम के 16 अधिकारियों के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की सिफारिश की थी। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त इसी मामले की जांच लुधियाना के अतिरिक्त जिला उपायुक्त इकबाल सिंह संधू ने की थी जिसमें उन्होंने जमीन की सेल डीड में फर्जीवाडा होने की रिपोर्ट पेश की थी।
पीएपी अध्यक्ष ने बताया कि डीएसपी बलविंदर सिंह ने पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता को शिकायत दी थी कि घोटाले की जांच से हटने के लिए कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु और कमलजीत सिंह कडवल उन पर दबाव बना रहे हैं तथा जान से मारने की धमकियां दी जा रही हैं। उन्होंने बताया रिपोर्ट पेश होने के 20 दिनाें पश्चात भी मुख्यमंत्री ने अभी तक मंत्री के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है और न ही पुलिस महानिदेशक ने बलविंदर की शिकायत पर कोई कार्रवाई करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने अारोप लगाया कि मुख्यमंत्री दोषियाें का बचाव कर रहे हैं।
श्री खैहरा ने कहा कि 18 फरवरी को विधानसभा में कैप्टन सिंह ने आश्वासन दिया था कि वह कैबिनेट मंत्री सहित दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे। अगर कैप्टन सिंह ने मंत्री आशु के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की तो पंजाब डेमोक्रेटिक अलायंस पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय में याचिका दायर करेगा।
पीएपी का शिरोमणि अकाली दल टकसाली से गठजोड़ नहीं होने के संबंध में श्री खैहरा ने कहा कि गठजोड़ से पूर्व ही टकसाली ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा की दी थी, इसलिए वैचारिक मतभेद होने के कारण गठजोड़ नहीं हो सका।
ठाकुर.श्रवण
वार्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here