गुरिंदर सिंह ब्रह्मपुरा अकाली दल बादल में शामिल. file photo

नौशहरा पन्नु 13 मार्च (वार्ता) शिरोमणि अकाली दल टकसाली के नेता रंजीत सिंह ब्रह्मपुरा के भतीजे गुरिंदर सिंह टोनी ब्रह्मपुरा बुधवार को शिरोमणि अकाली दल बादल में शामिल हो गए। वह अकाली दल के वरिष्ठ नेता बिक्रम सिंह मजीठिया की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।
श्री टोनी ब्रह्मपुरा आज अपनी पत्नी एवं जिला परिषद सदस्य रूपिंदर कौर सहित शिअद में शामिल हुए। श्री बिक्रम मजीठिया और खडूर साहिब से शिअद उम्मीदवार बीबी जागीर कौर ने श्री टोनी ब्रह्मपुरा के अकाली दल में शामिल होने का स्वागत किया गया।
इस अवसर पर श्री टोनी ब्रह्मपुरा ने कहा कि उनका टकसाली पार्टी से उस समय मोहभंग हो गया जब उन्हें पता चला कि वह वास्तव में कांग्रेस पार्टी की बी टीम है। उन्होंने कहा शिअद टकसाली कांग्रेस पार्टी द्वारा वित्तपोषित है। उन्होंने कहा कि टकसाली पार्टी ने अपनी आत्मा कांग्रेस पार्टी को बेच दी है और इसी कारण से मैंने टकसाली पार्टी को छोड़ दी और शिअद बादल का समर्थन करने और सिख पंथ के साथ खड़े होने का फैसला किया।
राज्य के पूर्व मंत्री बिक्रम मजीठिया ने कहा कि खडूर साहिब लोकसभा हलका में सैकड़ों परिवार हैं जिन्होंने पहले श्री रंजीत ब्रह्मपुरा को लगातार वोट दिया और समर्थन दिया था जो अब ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोगों को यह असहनीय लग रहा है कि टकसाली समूह कांग्रेस पार्टी की कठपुतली बन गयी है और उसका अब सिख संस्थानों और शिअद को कमजोर करने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस निर्वाचन क्षेत्र के लोग इस साजिश को कभी सफल नहीं होने देंगे और उन लोगों को सबक सिखाएंगे, जिन्होंने अपने स्वार्थों के लिए पंथ को धोखा दिया है।
श्री मजीठिया ने कहा कि श्री ब्रह्मपुरा ने अपने घटकों के कल्याण के लिए भी काम नहीं किया है। उन्होंने कहा कि सांसद पांच साल तक संसद में निर्वाचन क्षेत्र या पंजाब का एक भी मुद्दा उठाने में विफल रहे। अकाली नेता ने लोगों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सशस्त्र बलों के मजबूत नेतृत्व में विश्वास करने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि यह निंदनीय है कि कांग्रेस नेता सशस्त्र बलों का मनोबल गिराने की कोशिश कर रहे हैं।
ठाकुर, संतोष
वार्ता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here