Australia Federal Election. file photo

सिडनी। ऑस्ट्रेलिया में सत्तारुढ़ लिबरल पार्टी ऑफ ऑस्ट्रेलिया ने आगामी 18 मई को देश में संसदीय मतदान करवाने का एलान किया है। प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिस ने इस संबंध में आधिकारिक रूप से ऐलान किया। उन्होंने यह एलान गवर्नर-जनरल सर पीटर कॉग्रोव की यात्रा के बाद दिया है।
दुनिया के तीन प्रमुख देशों ऑस्ट्रेलिया, भारत और इजरायल में इस समय संसदीय चुनाव प्रक्रिया आरंभ है। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ने समय से पूर्व संसदीय चुनाव करवाने का एलान किया था और वे पांचवीं बार प्रधानमंत्री बन सकते हैं। भारत में 19 मई तक चुनाव प्रक्रिया चालू रहेगी।
ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गयी है। मुख्य विपक्षी पार्टी ऑस्ट्रेलियन लेबर पार्टी के नेता बिल शॉर्टिन ने चुनाव प्रचार अभियान की घोषणा करते हुए कहा, मुझे लगता है कि ऑस्ट्रेलियाई पिछले छह वर्षों की राजनीति से बेहतर है। हम देश के लिए सबसे अच्छा करने के लिए भूखे हैं।
प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिस ने कहा, हम दुनिया के सबसे अच्छे देश में रहते हैं। लेकिन अपने भविष्य को सुरक्षित करने के लिए हमें रोडमैप तैयार कर रहे हैं। यह चुनाव आर्थिक लिहाज से काफी बेहतर हैं। उन्होंने कहा कि आगामी चुनाव उनके और बिल शॉर्टन के बीच में होगा। अगर आप मुझे वोट देेते हैं तो आप मुझे प्राप्त करेंगे। अगर आप बिल शॉर्टन को वोट करते हैं तो आप उन्हें प्राप्त करेंगे।
प्रधानमंत्री ने कहा, जब मैं प्रधान मंत्री बना, हमने लिबरल पार्टी में नियमों को बदल दिया। यह लिबरल पार्टी के नियमों में सबसे बड़ा बदलाव था क्योंकि सर रॉबर्ट मेंज़ीज़ ने हमारे संसदीय दल की स्थापना यहाँ की थी। उन्होंने कहा, 18 मई को अगले चुनाव में, अगर लिबरल-नेशनल सरकार को वापस कर दिया जाता है … तो मैं प्रधान मंत्री के रूप में काम करूंगा, क्योंकि अतीत में हुई चीजों को रोकने के लिए नियमों को बदल दिया गया है।
सत्तारुढ़ लिबरल पार्टी ऑफ ऑस्ट्रेलिया का गणित देखें तो उनके पास 150 सदस्यों वाली संसद में मात्र 45 सांसद ही थे। बिल शॉर्टिन की पार्टी ऑस्ट्रेलियन लेबर के पास 69 सांसद थे। समाजवाद पर यकीन करने वाली लेबर पार्टी जादुई आकड़ा नहीं प्राप्त कर पायी और आर्थिक नीतियों को प्राथमिकता देने वाली लिबरल पार्टी ऑफ ऑस्ट्रेलिया सहयोगियों के साथ कार्यकाल पूरा करने में कामयाब रही।

CLick And Read This.. न्यूजीलैण्ड संसदीय चुनावों में भी विदेशी हस्तक्षेप : रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here