election news
फरीदाबाद में है इस बार भी भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला. file photo

चंडीगढ़, 10 मई (वार्ता)। हरियाणा की फरीदाबाद ही हॉट लोकसभा सीट पर इस बार भी भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) और कांग्रेस पार्टी के बीच सीधा मुकाबला देखा जा रहा है। हालांकि यहां मोदी फैक्टर का असर इस बार भी देखा जा रहा है।

इस सीट से आम आदमी पार्टी(आप) ने अपने प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद और इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) ने महेंद्र चौहान को चुनाव मैदान में उतारा हैं लेकिन राज्य में भाजपा बनाम कांग्रेस की जंग के माहौल तथा केंद्र में किसी बड़े राजनीतिक दल के नेतृत्व में मजबूत सरकार बनाने को लेकर लक्षित इन चुनावों में इन दलों की फिलहाल क्षेत्र में कोई हवा बनती नहीं दिखाई दे रही है। इस सीट से कुल 27 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के चलते यहां से भाजपा के कृष्ण पाल गुर्जर 57.7 प्रतिशत मत लेने में सफल रहे थे। उन्होंने कांग्रेस के अवतार सिंह भड़ाना को 4,66,873 मतों के बड़े अंतर से पराजित किया था। श्री गुर्जर बाद में केंद्र में राज्य मंत्री बनाए गये। श्री भड़ाना को पिछले चुनाव में 1,85,643 मत मिले थे। आप प्रत्याशी और जाने माने वकील आर.के. आनंद 1,32,472 मत लेकर तीसरे स्थान पर रहे थे।

भाजपा ने इस बार भी श्री गुर्जर को चुनाव मैदान में उतारा है। जबकि कांग्रेस ने चार बार सांसद रहे श्री भड़ाना पर पुन: दांव खेला है। श्री भड़ाना तीन बार फरीदाबार से और एक बार मेरठ से सांसद रहे हैं। रोचक बात यह है कि श्री भड़ाना पिछली बार लोकसभा चुनाव हारने के बाद इनेलो में शामिल हो गये थे लेकिन वहां दाल नहीं गलने पर वह भाजपा में आ गये। वर्ष 2014 में सांसद नहीं बन पाये तो वर्ष 2017 में उत्तरप्रदेश की मीरापुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और विजयी रहे।

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के लिये कांग्रेस ने श्री ललित नागर को फरीदाबार से अपना प्रत्याशी घोषित किया था। लेकिन प्रियंका गांधी के कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी बनते ही वह कांग्रेस में शामिल हो गये और श्री नागर का टिकट कटवा कर फरीदाबार से पुन: टिकट हासिल करने में भी सफल हो गये और एक बार फिर यहां मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच हो गया है और इसमें भी स्थानीय मतदाताओं में मोदी फैक्टर का असर देखा जा रहा है।

स्थानीय लोगाें में हालांकि श्री गुर्जर के प्रति नाराजगी दिखाई देती है। उनका आरोप है कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोई विकास नहीं हुआ है। हालांकि ग्रामीण मतदाताओं के बीच विकास को लेकर भी विरोधाभास दिखाई देता है। कुछ ग्रामीणों का कहना है कि गांवाें में पानी और सीवर लाईनें बदली जा रही हैं। गलियां, फिरनियां और सड़कें पक्की हो रही हैं। बिजली की लाईनें भी बदली जा रही हैं और आपूर्ति में भी सुधार हो रहा है। पहले कभी ऐसा नहीं हुआ जब एक साथ सभी चीजें हो रही हैं। कुलमिला कर यहां मतदाताओं के बीच मोदी फैक्टर हावी दिखाई देता है जो श्री गुर्जर को एक बार फिर संसद में पहुंचा सकता है।

भाजपा को इस लोकसभा क्षेत्र से फरीदाबाद से उसके विधायक एवं उद्योग मंत्री विपुल गाेयल, बडखल से विधायक सीमा त्रिखा और बल्लभगढ़ से विधायक मूलचंद शर्मा से भी उनके हलकों में बढ़त की उम्मीद है। भाजपा ने इसके अलावा हथीन से इनेलो विधायक केहर सिंह रावत को पार्टी में शामिल कर अपनी स्थिति मजबूत की है। फरीदाबाद एनआईटी से विधायक नागेंद्र भड़ाना भी इनेलो को साथ छोड़ का भाजपा का समर्थन कर रहे हैं। पृथला से बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से निलम्बित उसके विधायक टेक चंद शर्मा भी भाजपा का भी समर्थन कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here