पहलवान
डोप में पॉजिटिव पाए जाने पर पहलवान के साथ अब प्रशिक्षक पर भी गिरेगी गाज. file photo

हिसार, 13 मई (वार्ता) अब यदि कोई पहलवान अंतरराष्ट्रीय या राष्ट्रीय शिविर के दौरान डॉप में पॉजिटिव पाया जाता है तो न केवल उस पहलवान पर प्रतिबंध लगेगा बल्कि शिविर में नियुक्त सभी प्रशिक्षकों के खिलाफ भी कार्रवाई होगी।

यह फैसला भारतीय कुश्ती संघ ने फैसला लिया है।

कुश्ती संघ सूत्रों ने पुष्टि करते हुए बताया कि फैसला हाल ही में लिया गया है तथा फैसले की जानकारी संघ की सभी इकाइयों के साथ-साथ उन प्रशिक्षकों को भी दे दी गई है जो राष्ट्रीय कुश्ती शिविरों से जुड़े हैं।

सूत्रों के अनुसार पत्र भेज कर सभी को चेतावनी दी गई है कि राष्ट्रीय शिविर में यदि कोई पहलवान मादक दवाइयों का सेवन करता पाया गया तो संबंधित प्रशिक्षकों को बख्शा नहीं जाएगा।

कुछ वर्षों में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय पहलवानों के डॉप में पॉजिटिव पाए जाने के कुछ मामले सामने आए हैं जिससे न केवल देश की छवि को आघात पहुंचा है बल्कि भारतीय कुश्ती संघ को आर्थिक नुक्सान भी उठाना पड़ा है। भारतीय कुश्ती संघ ने 2 पहलवानों के डॉप में पॉजिटिव आने पर लगभग 32 लाख रुपए का जुर्माना यूनाइटेड वर्ल्ड रेसलिंग को अदा करना पड़ा है।

इसलिए यह निर्णय किया गया है कि भारतीय पहलवानों के डोप में पॉजिटिव आने के लिए केवल उसे जिमेवार नहीं होगा बल्कि इसकी जिम्मेदारी राष्ट्रीय शिविर में नियुक्त प्रशिक्षकों की भी होगी। भारतीय कुश्ती संघ का मानना है कि भारतीय प्रशिक्षकों की जिमेदारी केवल पहलवानों को ट्रेनिंग देना ही नहीं है बल्कि वह इन पहलवानों की दिनचर्या तथा डोपिंग जैसे गंभीर मामलों के लिए भी पूर्णतया जिमेवार हैं।

संघ ने स्पष्ट किया है कि यदि किसी प्रशिक्षक को किसी पहलवान पर संदेह होता है तो वह इसकी सूचना कुश्ती संघ को दे सकता है और यदि कोई पहलवान प्रशिक्षकों की आज्ञा का पालन नहीं इसकी भी सूचना संघ को करनी होगी। शिकायत मिलने पर भारतीय कुश्ती संघ सबंधित पहलवान के खिलाफ उचित कार्रवाई करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here