मानसून की खबर
श्रीगंगानगर, 15 मई (वार्ता) राजस्थान के श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ क्षेत्र में बेमौसम की बारिश से लोगों को गर्मी से भले राहत मिली है, लेकिन खेतों में नरमा-कपास की हाल ही बोईं फसलें खराब हो गईं।

श्रीगंगानगर, 15 मई (वार्ता) राजस्थान के श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ क्षेत्र में बेमौसम की बारिश से लोगों को गर्मी से भले राहत मिली है, लेकिन खेतों में नरमा-कपास की हाल ही बोईं फसलें खराब हो गईं।

दूसरी तरफ मण्डियों में बिकने के लिए आया गेहूं भीगने से इसकी गुणवत्ता प्रभावित हुई है। दोनों जिलों की मण्डियां इन दिनों गेहूं की भारी आवक से अटी पड़ी हैं। मण्डियों में गेहूं की बोरियां और ढेरियां ही दिखाई देती हैं। बारिश में गेहूं भीग जाने से सरकारी एजेंसी-भारतीय खाद्य निगम भीगा गेंहूं खरीदने में आनाकानी कर रहा है। श्रीगंगानगर की अनाज मण्डी में निगम के अधिकारियों ने भीगे गेहूं का जायजा लिया। हनुमानगढ़ जंक्शन एवं टाऊन की धानमण्डियों में निगम ने गेंहूं खरीदने से इन्कार कर दिया। मण्डी के आढ़तियों ने बताया कि किसान मण्डियों में अपनी फसल को सुखाने में लगा है, लेकिन निगम का मानना है कि भीग जाने से गेहूं की गुणवत्ता प्रभावित हुई है।

मौसम विभाग के अनुसार श्रीगंगानगर क्षेत्र में सुबह करीब 20 मिमी बरसात दर्ज की गई। इससे तापमान में काफी गिरावट आई और दिनभर मौसम सुहावना बना रहा। दोपहर में कुछ समय हल्की बूंदाबांदी भी हुई। किसान इस बेमौसम की बारिश से परेशान हैं क्योंकि इससे बोई गई फसलें खराब हो गई साथ ही मण्डियों मेें लाई गई फसल भीगने से बिक नहीं रही।

शहरों के लोग बरसाती पानी से गलियां जलमग्न हो जाने से परेशान हैं। श्रीगंगानगर शहर के लगभग सभी मुख्य मार्ग जलमग्न हो गये, जिससे लोगों को आने-जाने में परेशानी हुई। बरसाती पानी की निकासी व्यवस्था दुरुस्त नहीं है। नगरपरिषद ने कई स्थानों पर टैंकर लगाकर पानी की निकासी करने के प्रयास किये, जो नाकाफी रहे। मौसम विभाग ने 20 मई तक वर्षा जारी रहने की सम्भावना जताई है। इससे किसानों की चिंता बढ़ी हुई है।

उधर बारिश और तेज हवाओं-अंधड़ की वजह से सुबह सड़क एवं रेल यातायात प्रभावित हुआ। कई मार्ग टूटकर गिरे पेड़ों की वजह से अवरुद्ध हो गये। सम्पर्क मार्गों पर ज्यादा परेशानी हुई। शहरी क्षेत्र में बिजली की तारें टूट गईं, जिससे विद्युत आपूर्ति ठप हो गई। श्रीगंगानगर शहर के अधिकांश इलाकों में सुबह तीन बजे बारिश शुरू होते ही बिजली गुल हो गई। शहर में कई स्थानों पर तारें टूट गईं और पेड़ गिर गये। श्रीगंगानगर जिले के श्रीबिजयनगर क्षेत्र में कई पेड़ रेलवे ट्रेक पर गिर गये, जिससे रेल यातायात प्रभावित हुआ। सूरतगढ़-अनूपगढ़ के बीच चलने वाली सवारी रेलगाडिय़ां प्रभावित हुईं। रेलवे कर्मियों ने पेड़ों को हटाकर यातायात सुचारु किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here