श्रीगंगानगर के मतदाताओं ने इतिहास रच दिया, प्रदेश में अव्वल रहा

राजस्थान में शाम 6 बजे तक कुल 63.74 प्रतिशत मतदान

श्रीगंगानगर प्रदेश में 74.35 मतदान के साथ अव्वल रहा

23 मई को पता लगेगा किसके भाग्य का हुआ उदय

जयपुर। राजस्थान की 12 संसदीय क्षेत्र के लिए सोमवार को मतदान किया गया। दोपहर 3 बजे तक ही 50 प्रतिशत मतदाताओं ने मतदान कर दिया था। सीमा से चिपते श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र में सर्वाधिक मतदान हुआ। वहीं राजस्थान में कुल मतदान प्रतिशत शाम 6 बजे तक की रिपोर्ट के अनुसार 63.74 रहा।

Courtesy of website of Rajasthan CEO

राज्य में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए सोमवार प्रात: मतदान आरंभ होने से पहले ही लम्बी लाइनें लगनी आरंभ हो गयीं थी और शाम 6 बजे तक अन्तिम समय में भी मतदाता कतार में लगे हुए नजर आ रहे थे। गंगानगर, बीकानेर, चूरू, झुंझुनू, सीकर, जयपुर ग्रामीण, जयपुर, अलवर, भरतपुर, करौली-धौलपुर, दौसा और नागौर में मंगलवार सुबह 7 बजे से मतदान शुरू हुआ।

मतदाताओं में खासा उत्साह नजर आ रहा था। लोग दूर शहरों ही नहीं बल्कि विदेशों से भी अपना मतदान करने के लिए आये थे। झुंझुनूं में एक वृद्ध महिला ने इस तरह का उदाहरण भी पेश किया, जो वह अमेरिका से सिर्फ मतदान करने के लिए अपने गांव आईं।

Courtesy of website of Rajasthan CEO

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने शाम 6 बजे के बाद जो अपनी वेबसाइट पर आकड़े जारी किये हैं, उसके अनुसार श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र में सर्वाधिक मतदान हुआ। यहां 74.35 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जो गत लोकसभा चुनावों के मुकाबले लगभग 2 प्रतिशत अधिक हैं। दोनों ही पार्टियों के बूथ कार्यकर्ता प्रात:काल से ही अपने-अपने बूथ की जिम्मेदारी संभालते हुए नजर आये। प्रदेश में कहीं भी अप्रिय घटना की जानकारी सामने नहीं आयी है।

निर्वाचन आयोग के आकड़ों के अनुसार बीकानेर में 59.29, चुरू में 65.65, झुंझुनूं में 61.88, सीकर में 64.78, जयपुर ग्रामीण में 65.02, जयपुर शहर में 68.14, अलवर में 66.85, भरतपुर में 58.85, करौली-धोलपुर 55.13, दौसा में 61.23, नागौर में 62.15 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।
वहीं समयानुसार अगर नजर डाली जाये तो प्रात: 9 बजे तक 14.16, 11 बजे तक 29.77, दोपहर 1 बजे तक 43.07, 3 बजे तक 50.52, 5 बजे तक 59.26 तथा शाम 6 बजे तक 63.74 प्रतिशत मतदान हुआ। कल प्रात: तक प्रदेश के सभी स्थानों से कुल गणना के बाद सही आकड़े चुनाव आयोग तक पहुंच जायेंगे, जिसके बाद मतदान प्रतिशत में मामूली बढ़त होने का अनुमान है।

जयपुर ग्रामीण में रोचक मुकाबला

कृष्णा पूनिया and rajyavardhan singh Rathore. file photo

जयपुर ग्रामीण संसदीय क्षेत्र ऐसा है, जहां प्रदेश की नजर लगी हुई है। वहां भारतीय ओलपिंक टीम के सदस्य रहे दो खिलाड़ी राज्यवद्र्धनसिंह राठौड़ तथा कृष्णा पूनिया आमने-सामने हैं। श्री राठौड़ राजपूत समाज का प्रतिनिधित्व करते हैं तो कृष्णा पूनिया जाट परिवार से हैं। राजपूत समाज में अधिकांश लोग भाजपा के साथ नजर आते रहे हैं तो वहीं जाट समाज को कांग्रेस का समर्थक माना जाता रहा है। यहां दोनों विश्वस्तरीय खिलाड़ी चुनावी मैदान में हैं तो यह तय है कि यहां से खिलाड़ी की ही जीत होगी और वह भारतीय खेलों को आगे बढ़ाने के लिए काम करेगा।

श्रीगंगानगर में माहौल इस बार अलग था

 

BhartatRam and nihal Chand.

श्रीगंगानगर संसदीय क्षेत्र सर्वाधिक मतदान के हिसाब से प्रदेश में प्रथम स्थान पर रहा। राजनीति के जानकारों का मानना है कि मतदान प्रतिशत इस कारण भी बढ़ा क्योंकि पहली बार मतदाताओं ही नहीं अपितु कार्यकर्ताओं में भी लोकसभा चुनावों के लिए जोश नजर आ रहा था। दोनों ही पार्टियों के कार्यकर्ता पूरी तैयारी के साथ चुनाव-प्रचार कर रहे थे। विधानसभा चुनावों में पहली बार मौका था, जब जिले की सिर्फ दो सीट ही सत्तापक्ष की पार्टी जीत पायी थी, जबकि इससे पहले जितनी बार भी चुनाव हुए हैं कम से कम 5 विधानसभा क्षेत्र सत्तापक्ष को जाते रहे हैं। भाजपा के पास तीन विधायक सूरतगढ़, अनूपगढ़ और रायसिंहनगर से हैं।

श्रीगंगानगर लोकसभा क्षेत्र की आठ विधानसभाओं में सर्वाधिक मतदान सादुलशहर में 76.13 प्रतिशत रहा है। निर्वाचन विभाग की सूचनाओं के अनुसार सादुलशहर में 76.13 प्रतिशत, श्रीगंगानगर में 72.36 प्रतिशत, श्रीकरणपुर में 75.49 प्रतिशत, सूरतगढ़ में 73.14 प्रतिशत, रायसिंहनगर में 75.30 प्रतिशत, संगरिया में 72.98 प्रतिशत, हनुमानगढ़ में 73.42 प्रतिशत और पीलीबंगा में 75.92 प्रतिशत मतदान हुआ।

दोनों ही पार्टियों के कार्यकर्ताओं में जोश था और दोनों ही पक्ष अपनी-अपनी जीत के लिए दावे कर रहे हैं। आने वाली 23 मई को पता चलेगा कि किस पार्टी के सिर पर जीत का सेहरा बंधता है।

 

आग में मासूम जिंदा जला, पांच झुगियां जल कर राख

शिमला में सेना के जवान ने की खुदकशी, मामला दर्ज

मुझे अपनी देशभक्ति साबित करने की जरूरत नहीं: अक्षय

अफसर बोले-हमने नहीं की कोर्ट के आदेश की अवहेलना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here